प्राधिकरण के विकास कार्यों को प्राथमिकता से करें जल्द पूर्ण:- कमिश्नर

0
154

करीम

जगदलपुर 13 जुलाई कमिश्नर श्री श्याम धावड़े ने कहा कि बस्तर संभाग के इतिहास में कई वीर-वीरांगना हुए हैं, उन वीरों के स्मृति को चिरायु बनाने के लिए प्राधिकरण के माध्यम से मूर्ति स्थापना और बस्तर की जनजातीय संस्कृति व रीति-रिवाजों को पुस्तकों के द्वारा सहेजने का कार्य किया जा रहा है। इन विकास कार्यों को प्राथमिकता से जल्द पूर्ण करें। कमिश्नर श्री धावड़े ने गुरुवार को बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण मद और अन्य विकास कार्यों की समीक्षा बैठक कमिश्नर कार्यालय के सभाकक्ष में लिया। उन्होंने आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त और जनपदों के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों से देवगुड़ी-मातागुड़ी के जीर्णोद्धार कार्यों, बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण मद के विकास कार्यों, मुख्यमंत्री के संभाग में भ्रमण के दौरान किए गए घोषणा के क्रियान्वयन, देवगुड़ी को सामुदायिक वनाधिकार पट्टा, वन अधिकार मान्यता पत्र, मसाहती सर्वे कार्य, रीपा अंतगर्त आर्थिक गतिविधियों का संचालन, अन्य विकास कार्य सहित एकलव्य व प्रयास आवासीय विद्यालय की समीक्षा की।
कमिश्नर ने समीक्षा के दौरान कहा कि प्राधिकरण से स्वीकृत वीर-वीरांगनाओं की मूर्तियों की गरिमा और भव्यता का विशेष ध्यान रखते हुए मूर्ति की लंबाई लगभग 7 फीट रखा जाए। साथ ही देवगुड़ी-मातागुड़ी के जीर्णोद्वार कार्य में गुणवत्ता का ख्याल रखें। उन्होंने बस्तर संभाग में वन अधिकार मान्यता पत्र प्रदाय हेतु पूरे प्रदेश में बेहतर कार्य करने के लिए सभी जिलों की सराहना की साथ ही देवगुड़ी-मातागुड़ी के लिए जमीन संरक्षित कर सामुदायिक वनाधिकार पट्टा देने के लिए तारीफ की। एफआरए हितग्राहियों को ऋण पुस्तिका का वितरण और किसान क्रेडिट कार्ड जारी करने की सराहना किए। श्री धावड़े ने सुकमा, दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर जिलों में विशेष प्रयास कर एफआरए का बेहतर क्रियान्वयन किए जाने पर जोर दिया। अति संवेदनशील क्षेत्र के छूटे हुए गांवों को लक्ष्य निर्धारित कर प्रमाण पत्र जारी करने कहा।
समीक्षा बैठक में पुरखौती कागजात बुक के संबंध में चर्चाकर आवश्यक दस्तावेज और देवगुड़ी के महत्व को भी रेखांकित करने की जानकारी देने कहा गया। कमिश्नर ने एकलव्य व प्रयास आवासीय विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं का एनआईटी, जेईई, नीट में सलेक्शन की स्थिति का संज्ञान लेकर संस्थानों के प्राचार्यों को लक्ष्य देकर विद्यार्थियों को प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करवाने के निर्देश दिए। आरईएस के कार्य में उचित मूल्य दुकान, आंगनबाड़ी केंद्र के निर्माण कार्यों की प्रगति की समीक्षा किए। इस अवसर पर डिप्टी कमिश्नर श्री बी एस सिदार, माधुरी सोम, संयुक्त कलेक्टर श्री दिनेश नाग सहित सभी जिलों के सहायक आयुक्त, संभाग के सभी जनपदों के सीईओ, नगरीय निकाय के सीएमओ, आरईएस विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here