बस्तर वर्षा

0
142
करीम
जगदलपुर, 27 जुलाई। बस्तर संभाग में पिछले एक सप्ताह से लगातार हो रही बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त है। नदी-नाले उफान पर हैं। छत्तीसगढ़-आंध्रप्रदेश का संपर्क टूट चुका है वहीं अंदरूनी इलाकों में पुल-पुलिया का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है।
अधिकारिक जानकारी के अनुसार इंद्रावती, शबरी, संकनी-डंकनी सहित कई नदी-नालों का पानी उफान पर है। सुकमा जिले के कोंटा स्थित गोदावरी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। अभी वर्तमान में 50.5 इंच जलस्तर है जो दुसरा वार्निंग लेवल पर है। कोंटा बस्ती में पानी पहुंच रहा है ऐहतिहात के तौर पर लोगों को सुरक्षित जगह जाने की अपील की है। जिला प्रशासन बाढ़ की स्थिति पर निगरानी कर रही है।
बीजापुर जिले के भोपालपटनम नगर में रात से हुई मूसलाधार बारिश से तीन वार्ड जलमग्न हो गए हैं। लोगों के घर पानी में डूबे हुए हैं और अंदर रखा सारा सामान बर्बाद हो गया है। मौके पर पहुंचे राहत और बचाव दल ने लोगों को घरों से निकालकर राहत शिविर में पहुंचाया है। इलाके में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं।
भोपालपटनम इलाके में मंगलवार आधी रात से हुई तेज बारिश ने नगर के कई हिस्सों में बाढ़ का रूप ले लिया। नगर के रालापल्ली, सड्रापारा व छोटा तालाब पारा में पानी घरों के अंदर घुस गया था और पूरा मोहल्ला जलमग्न हो गया। इन कालोनियो में बाढ़ जैसे हालात बन गए थे। जिन लोगों के घरों में पानी घुसा था। वहां के लोगो को रेस्क्यू टीम ने राहत शिविर तक लाने के लिए सुबह से ही मशक्कत शुरू कर दी थी। सूचना मिलने पर कलेक्टर राजेन्द्र कटारा व पुलिस अधीक्षक आंजनेय वाष्णेय भी प्रभावितों से मिलने पहुंच गए।
बताया गया है कि पानी ने  29 मकानों को आंशिक तौर पर क्षति पहुंचाई है। संभावना है कि 10 मकानों को आर्थिक क्षति हो सकती है। इधर प्रशासन की ओर से सामुदायिक भवन में लगाए गए राहत शिविर मे 22 व्यक्तियों के लिए भोजन पानी की व्यवस्था की गई हैं। इस दौरान बीजापुर अनुविभागीय दंडाधिकारी पवन कुमार प्रेमी, तहसीलदार सूर्यकांत, नगर पालिका अधिकारी बीआर सोनबेर सड्रापारा नाले के किनारे बसे लोगो राहत पहुंचाने में लगे थे। कई पोटाकेबिनों में भी पानी घूस गया है, बच्चों को दुसरे पोटाकेबिन में सुरक्षित पहंुचाया गया।
——————

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here