सुकमा कलेक्टर अपहरण कांड मामले का आरोपी हेमला भीमा बरी

0
162

करीम

डेटावाड़ा। सुकमा कलेक्टर एलेक्स पॉल मेनन के अपहरण मामले में एनआईए कोर्ट का बड़ा फैसला आया है। इस मामले में मुख्य अभियुक्त हेमला भीमा नीला आकाश बाईज्जत हुआ बहु करने का आदेश न्यायधीश दीपक कुमार देशलहरे की एनआईए की विशेष अदालत ने दिया है। इस मामले की सुनवाई के दौरान सुकमा के सभी पहलुओं श्री मेनन घटना की पहचान से इनकार किया गया था।

सेंचुरी पर सुकमा के मामले में कलेक्टर के अपहरण का आरोप था। 21 अप्रैल 2012 को सुकमा जिले से अटैचमेंट मैनन का अपहरण हुआ था। इस घटना के दौरान कलेक्टर के दोनो सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई थी। बचाव पक्ष की ओर से वकील बिचेम पोंदी व उनके सहयोगी पी भीमा ने पैरवी की।

हेमला की ओर से केस लड़ रहे अधिवक्ता बिचेम पोंदी ने प्रभाव से चर्चा में बताया कि हेमला के शत्रु कुल 16 अलग-अलग अपराध पंजीबद्ध थे। जिसमें से आज जिस मामले का फैसला कोर्ट ने सुना है वह फाइनल है। जिसके अभियोजन पक्ष की ओर से पर्याप्त सबूतों के अभाव में न्यायपालिका को दोषमुक्त करार दिया गया है। श्री पोंदी ने कहा कि आज वीडियो कांफरेंसिंग के माध्यम से सुनवाई हुई। जिसके साथ न्यायलय ने अपना फैसला सुना दिया। जगदलपुर जेल से हेमला की रिलीज 12 अप्रैल को सुबह साढ़े दस बजे होगी।

बताया जा रहा है कि हेमला ने इस बीच जेल में कुल छह साल सात महीने और अकेले अपराध दर्ज किए। सूत्रों का कहना है कि जिस दौरान सुकमा कलेक्टर अलेक्स मेनन का अपहरण हुआ, उस दौरान केरलापाल क्षेत्र में माओवादी संगठन में हेमला एरिया कमांडर के तौर पर सक्रिय रहा। हेमला मूलत: पोलमपल्ली थाना क्षेत्र के पालामड़गू गांव का निवासी है।

लेट्स एलेक्स पॉल मेनन ने कथित तौर पर भ्रष्टाचारी को लिपटने से मना कर दिया

मेनन ने फरवरी 2023 को न्यायलय में दिए अपने बयानों में कहा कि घटना काफी पुरानी है, इसलिए अभियुक्त गणेश उईके, रमन्ना, पापा राव, विजय मड़कम आकाश, हुंगी, उर्मिला, मल्ला, नीलेश, हिड़मा, हेमला भीमा ठीक आकाश, मुकेश भीमा, देवा व 125 किसी भी कन्या की भविष्य में पहचान भी नहीं बनेगी। बता दें कि छत्तीसगढ़ पुलिस की स्पेशल टीम ने साल 2016 में अपहरण में शामिल अपराधी हेमला भीमा आकाश को गिरफ्तार करने का दावा किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here