हाईटेक सुविधाओं से लैस भाजपा की परिवर्तन यात्रा का रथ देश की ग़रीबी को मुंह चिढ़ाने वाली यात्रा-जावेद खान

0
161

करीम

 

भाजपा को परिवर्तन नहीं पश्चाताप यात्रा निकालनी चाहिए छत्तीसगढ़ में -जावेद खान

जगदलपुर, 13 सितम्बर. युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पीसीसी मीडिया पैनलिस्ट जावेद खान ने भाजपा की परिवर्तन यात्रा में उपयोग की जा रही सर्वसुविधायुक्त एवं हाईटेक वाहन को लेकर भाजपा पर तंज कसा है,जावेद ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कहा है कि एक तरफ देश की 80 करोड़ जनता पांच किलो सरकारी राशन के सहारे जीवन जीने को मजबूर है वहीं दूसरी ओर सत्ता परिवर्तन का जुनून लिए घूम रहे केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह छत्तीसगढ़ में परिवर्तन यात्रा आलिशान और सर्वसुविधायुक्त रथ के सहारे पूरा करना चाहते हैं,एक तरफ पूरे देश में 46 वर्ष की बेरोजगारी दर का रिकार्ड मोदी सरकार ने तोड़ दिया है वहीं दूसरी ओर हाईटेक और एल ई डी स्क्रीन वाले आलिशान रथ से सत्ता में वापसी के सपने देख रहे हैं केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, एक तरफ मणिपुर आज भी जल रहा है और सत्ता की लालसा केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह को छत्तीसगढ़ से निकलने नहीं दे रही है, भाजपा की परिवर्तन यात्रा रथ आधुनिक सुरक्षा उपकरणों से लैस हैं,रथ की छत पर मंच की व्यवस्था की गई है,इस मंच पर पहुंचने के लिए स्वचालित सीढ़ी की व्यवस्था की गई है यानी भाजपा नेताओं को चार सीढ़ी चढ़ने की भी जहमत नहीं उठानी पड़ेगी भले ही देश की जनता को इन्होंने कोरोना काल में बिना पूर्व सूचना के थोपे गए लाकडाऊन के चलते हजारों किमी का सफर पैदल तय करना पड़ा था,भाजपा और अमित शाह की यह परिवर्तन यात्रा विकास विरोधी यात्रा है जिसका छत्तीसगढ़ की जनता पर कोई असर नहीं पड़ने वाला यह बात बखूबी अमित शाह और छत्तीसगढ़ भाजपा प्रभारी ओम माथुर भी जानते हैं इसीलिए परिवर्तन यात्रा में उपयोग होने वाले रथ को इतना वातानुकूलित और मनोरंजनकारी बनाया गया है कि एक कतरा पसीना भी ना गिरे और यात्रा के नाम पर ये नेता पर्यटक के रूप में छत्तीसगढ़ दर्शन कर लौट जाएं। जावेद ने कहा कि एक तरफ जिसे भाजपा कांग्रेस का युवराज और मुंह चांदी का चम्मच लेकर पैदा हुआ नेता कहती है वही राहुल गांधी पूरे देश को एक टी-शर्ट और बारिश, ठंड,और गर्मी में 3570 किमी पैदल चलकर पूरे देश को जोड़ दिया,प्यार मोहब्बत और भाईचारे का संदेश देते हुए आगे बढ़ती गयी भारत जोड़ो यात्रा और कांरवा बनते बनते जनसैलाब में तब्दील हो गया,वहीं खुद को निर्धन घर की पैदाइश बताने वाले भाजपा के नेताओं के ठाठ कितने नवाबी हैं आज देश व प्रदेश की जनता देख रही है,छत्तीसगढ़ की जनता आज किसी तरह के परिवर्तन के मूड में नहीं है क्योंकि 15 साल भाजपा के कुशासन को परिवर्तित करने के बाद ही प्रदेश की जनता ने पौने 5 साल भुपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार का परिवर्तन छत्तीसगढ़ में देखा है जिसमें आज छत्तीसगढ़ देशभर में भाजपा शासित प्रदेशों की तुलना में अधिक विकसित और विकासशील है जहां देश-भर में गुजरात माडल का ढोल पीटा जाता था वहीं आज छत्तीसगढ़ माडल के आगे गुजरात माडल की हवा निकल गयी है,जहां प्रदेश में 2018 में बेरोजगारी दर 22% थी आज वहीं सबसे कम बेरोजगारी दर वाला 0.1% राज्य छत्तीसगढ़ है,जहां 2014-15 तक धान का समर्थन मूल्य 1360/- था वहीं आज छत्तीसगढ़ का किसान 2500/- में धान बेच रहा है,जहां 2018 तक छत्तीसगढ़ का किसान 10 क्विंटल धान भी प्रति एकड़ नहीं बेच पाता था वहीं आज 20 क्विंटल धान छत्तीसगढ़ के किसान से छत्तीसगढ़ की भुपेश सरकार खरीदने की घोषणा कर चुकी है,जहां 2018 से पूर्व भूमिहीन किसानों के लिए कुली मजदूरी के अलावा कोई विकल्प नहीं था वहीं आज छत्तीसगढ़ की सरकार भूमिहीन किसानों को 6000/- वार्षिक प्रोत्साहन राशि दे रही है,जहां 2018 से पूर्व भाजपा की रमन सरकार 6000 से भी ज्यादा सरकारी स्कूलों को बंद कर प्रदेश में अशिक्षा का घनघोर अंधेरा फैला चुकी थी वहीं आज स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय शिक्षा की एक नयी किरण बनकर प्रदेश में भाजपा द्वारा फैलाए गये अंधेरे को खत्म कर रही है,2018 से पूर्व प्रदेश में नक्सलवाद छत्तीसगढ़ की राजधानी के करीब तक पहुंच चुका था और राजधानी में अपनी उपस्थिति भी दर्ज कराने लगा था वहीं आज वो सिमट कर अपनी अंतिम सांसें गिनने को मजबूर है सारकेगुड़ा,एडसमेटा,रानी बोदली और झीरम जैसे कांड भाजपा के शासनकाल में हुए जिसे प्रदेश की जनता भूली नहीं है,2018 से पूर्व प्रदेश के बेरोजगारों के साथ 500/- बेरोजगारी भत्ता देने के नाम पर मजाक किया जाता था वहीं आज बेरोजगारों को छत्तीसगढ़ सरकार 2500/- बेरोजगारी भत्ता भी दे रही है और उन्हें आत्मनिर्भर बनने प्रशिक्षित भी कर रही है, वहीं प्रदेश के युवाओं को नशाखोरी से दूर करने एकजुट रखने और सामाजिक बनाने भुपेश बघेल की सरकार राजीव मितान योजना के अंतर्गत कार्य कर रही है,जहां 2018 से पहले छत्तीसगढ़ में वनोपज के नाम पर वनांचल में जीवनयापन करने वालों को छला जाता था वहीं आज छत्तीसगढ़ में उत्पादित होने वाली करीब 67 लघु वनोपज का संग्रहण समर्थन मूल्य और वनोपज संघ की सपोर्ट प्राइज पर क्रय की जा रही है। छत्तीसगढ़ में 38 वनोपज को सपोर्ट प्राइज फॉर एमएफपी पर खरीदी किए जाने से वनांचल क्षेत्र में रहने वाले किसानों को फायदा हो रहा है इसी तरह 2018 से पूर्व रमन सरकार में छत्तीसगढ़ की संस्कृति छत्तीसगढ़ की परंपरा को नष्ट करने का कार्य किया गया वहीं आज छत्तीसगढ़ की संस्कृति छत्तीसगढ़ की परंपरा छत्तीसगढ़ महतारी और छत्तीसगढ़ की बोली भाखा को विश्व स्तर पर स्थान दिलाने का कार्य यदि किसी ने किया है तो वो भुपेश बघेल सरकार ने किया है,छत्तीसगढ़ में माता कौशल्या के मंदिर का जीर्णोद्धार, भगवान श्री राम की सबसे भव्य प्रतिमा और राम-वनगमन पथ का निर्माण भी भुपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने किया है,गौधन न्याय योजना से जहां ग्रामीणों को आर्थिक लाभ मिल रहा है वहीं किसानों को जैविक खाद की पूर्ति भी हो रही है,छत्तीसगढ़ के ग्रामीणों को वन अधिकार पट्टा देने में छत्तीसगढ़ सरकार देश में सबसे अग्रणी रही है नरवा गरवा गुरवा बाड़ी योजना से आज गांव का किसान आर्थिक रूप से मजबूत हुआ है। जावेद ने कहा भाजपा को परिवर्तन की जगह पश्चाताप यात्रा निकालने की आवश्यकता है क्योंकि छत्तीसगढ़ की जनता ने भाजपा को एक नहीं दो नहीं पूरे पन्द्रह वर्ष दिये छत्तीसगढ़ के विकास के लिए परंतु सत्ता के नशे में चूर रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने छत्तीसगढ़ को चारागाह बना कर छोड़ दिया,छत्तीसगढ़ की जनता के साथ विश्वासघात किया छत्तीसगढ़ के ग्रामीणों को रोजगार की जगह हथियार पकड़ाया आदिवासियों को आदिवासियों के हांथों मरवाया, बेकसूर आदिवासियों का नक्सली बताकर कहीं फर्जी मुठभेड़ में नरसंहार करवाया तो कहीं सालों तक बेगुनाह आदिवासियों को नक्सली बताकर जेल की कालकोठरी में कैद कर दिया,छत्तीसगढ़ के युवाओं के हक की नौकरियों में आऊटसोर्सिंग कर अन्य प्रदेशों के लोगों को रोजगार दिलवाया, छत्तीसगढ़ के लोगों को अन्य राज्यों में पलायन के लिए मजबूर किया और पंद्रह साल प्रशासनिक आतंकवाद का छत्तीसगढ़ को गढ़ बनाया,आज छत्तीसगढ़ की जनता रमन सरकार के पंद्रह साल के कुकर्मों को भूली नहीं है, प्रदेश की जनता को सबकुछ याद है इसलिए भाजपा के नेताओं को परिवर्तन यात्रा की नहीं पश्चाताप यात्रा निकालने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here