मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार लगभग 5 लाख 62 हजार से अधिक पौधरोपण का लक्ष्य

0
26

जगदलपुर 22 जून /आदिवासी एवं अन्य परम्परागत वन निवासियों का जल, जंगल और जमीन के साथ-साथ सेवी-अर्जी स्थलों पर अटूट आस्था रखते हैं। देव-माता गुड़ी स्थल के आसपास वृक्षों को देवता समतुल्य मान्यता है, गुड़ी स्थल पर स्थित पेड़ पौधों को संरक्षित रखा जाता है। इसी भावना के साथ मुख्यमंत्री श्री विष्णुदेव साय के निर्देशानुसार बस्तर क्षेत्र के सभी देवगुड़ी, मातागुडी, प्राचीन मृतक स्मारक स्थलों के आसपास लक्ष्य अनुरूप अनिवार्य रूप से वृक्षारोपण करने की कार्ययोजना है। कमिश्नर श्री श्याम धावड़े ने बताया कि संभाग के सातों जिलों में कुल 7055 देवगुड़ी-मातागुड़ी, जारी 3455 वन अधिकार मान्यता पत्र स्थलों में 2607.200 हेक्टेयर रकबा में 5 लाख 62 हजार 500 वृक्षारोपण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

इस वृक्षारोपण कार्य के लिए जिलों के जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इन देव स्थलों पर फलदार, फुलदार, छायादार पौधे यथा नीम, आम, जामून, करजी, अमलताश व ग्रामवासियों के सुझाव अनुसार पौधों का रोपण विशेष अभियान चलाकर किया जाएगा। वृक्षारोपण के दिन ग्राम प्रमुख, बैगा, सिरहा, पेरमा, मांझी, चालकी, गुनिया, गायता, पुजारी, पटेल, बजनिया, अटपहरिया तथा मान. जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया जाएगा। वृक्षारोपण कार्य वन विभाग के सहयोग से वन महोत्सव कार्यक्रम को 15 जुलाई 2024 तक पौधरोपण कार्य को पूर्ण करवा लिया जाएगा। उन्होंने जिलों के कलेक्टरों को समय- सीमा की बैठक में इसकी सतत समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here