कायाकल्प, आयुष्मान योजना में महारानी अस्पताल को मिला प्रथम स्थान

0
179

करीम

अस्पताल के डॉ प्रसाद को मिला सिविल सर्जन  पुरुस्कार

जगदलपुर 14 अप्रैल  कायाकल्प  योजना वर्ष 2022-23 के अंतर्गत 13 अप्रैल  को मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल एवं  स्वास्थ्य मंत्री  टी एस सिंहदेव  की उपस्थिति में पुरस्कार समारोह रायपुर में आयोजित किया गया जिसमे महारानी जिला अस्पताल जगदलपुर को प्रथम स्थान से सम्मानित किया गया |  योजनांतर्गत कुल 8 थीमेटिक एरिया में अस्पताल का मूल्यांकन राज्य स्तरीय दल द्वारा किया गया था जिसमे अस्पताल के रखरखाव, स्वच्छता, जैव अपशिष्ट प्रबंधन, संक्रमण रोकथाम, सपोर्ट सर्विसेस, हाईजिन प्रमोशन बाउंड्रीवाल के पास की सफाई एवं इको फ्रेडली एरिया का मूल्यांकन किया गया।  जिला अस्पताल इस मूल्यांकन की प्रक्रिया मे खरा उतरा है ।
उपरोक्त के अलावा उल्लेखनीय बात यह भी रही कि मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी एवं सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक स्तर के अधिकारियो में जगदलपुर से महारानी जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन डॉ संजय प्रसाद को सर्वश्रेष्ठ सिविल सर्जन छत्तीसगढ राज्य में चुना गया है एवं उनके अच्छे कार्यों को देखते हुये प्रशस्ति पत्र एवं राज्य स्तरीय सम्मान से पुरस्कृत किया गया है। स्वास्थ्य मंत्री श्री टी एस सिंहदेव के द्वारा यह सम्मान स्वास्थ्य विभाग के राज्य स्तरीय कार्यक्रम मे प्रदान किया गया है। साथ ही साथ 13425 से अधिक मरीजो का कैशलेस इलाज़कर आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य डॉ खुपच बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना अंतर्गत महारानी अस्पताल प्रदेश के अन्य सभी जिला अस्पतालों को पीछे छोड़ते हुए प्रथम स्थान प्राप्त किया है. त्वरित निदान सबसे कम शिकायत एवं सर्वाधिक पंजीयन के मापदंड पूरे करने के कारण आज यह पुरस्कार अस्पताल को प्राप्त हुआ है।

महारानी अस्पताल स्वास्थ्य सुविधाओं की दृष्टि से आज छग प्रदेश में अपनी अलग पहचान रखता है। अस्पताल की अधोसंरचना प्रदेश के निजी अस्पताली के अनुकूल है। प्रत्येक विभाग अत्यावश्यक उपकरणों से सुसज्जित है। बस्तर जिले के अलावा बस्तर संभाग एवं अन्य राज्य जैसे उड़ीसा के मरीज भी इस अस्पताल मे सेवाओं से लाभान्वित हो रहे है। अस्पताल की ओपीडी प्रतिदिन 800 है जो कि मेडिकल कालेज से भी दोगुनी है। जनता का भरोसा इस अस्पताल पर इतना है कि एक्स रे पैथालाजी टेस्ट एवं अन्य प्रमुख सेवा प्रदायगी के इंडीकेटर विगत 2 वर्षों मे प्रत्यक्ष रूप से इस अस्पताल मे सतत रूप से बड़े है। अस्पताल में आधुनिक मशीनो से प्रतिदिन साफ सफाई की जाती है. प्रतिदिन साफ सफाई की निगरानी की जाती है। अस्पताल परिसर मे मरीजो एवं स्टाफ के लिये डेडिकेटेड पार्किंग उपलब्ध है। यहाँ मरीजों को गुणवत्तापूर्ण ईलाज तो दिया ही जाता है साथ ही 24/7 सिक्युरिटी की व्यावस्था मरीजों के लिये गुणवत्तापूर्ण निःशुल्क आहार, जैव अपशिष्ट का त्वरित निपटान, जिले के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों के लिये एक प्रेरणा का स्रोत है। मरीजो एवं स्टाफ को संक्रमण बचाने लिये अस्पताल प्रबंधन द्वारा अपनायी जाने वाली कार्यप्रणाली बेहतरीन है। कम संसाधनों में हमर लैब संचालित की जा रही है। 2018 में मेडिकल कालेज से पृथक होने के बाद आज यह अस्पताल बस्तर की जनता को गुणवत्तापूर्ण सेवायें देने के लिये एक अलग ही कलेवर में दिखायी देता है। अस्पताल के सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डॉ संजय प्रसाद की लीडरशीप में अस्पताल की पूरी टीम के संयुक्त प्रयास से  ये सारे पुरस्कार अस्पताल को प्राप्त हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here