कौशल को आजीविका के साधन के रूप में करें विकास -कलेक्टर  विजय दयाराम के.

0
153

करीम
जगदलपुर,12 जून  कलेक्टर  दयाराम के. ने कहा कि कौशल व हुनर को आजीविका के साधन के रूप में विकास करें। प्रशिक्षणों में कौशल को और निखारकर रोजगार के अवसर को बढ़ाएं। उन्होंने कहा कि शासन और मुख्यमंत्री के मंशानुसार बेरोजगारी को दूर करने के लिए युवाओं को रोजगार प्राप्त करने के लिए भत्ता का प्रावधान किया है। बेरोजगारी भत्ता प्राप्त करने वाले हितग्राहियों को रूचि के अनुसार काउसलिंग कर प्रशिक्षण दिया जाना है, हितग्राही दिए जा रहे प्रशिक्षण को शिददत के साथ सीखें। प्रशिक्षण के प्रारंभ से अंत तक तथा रोजगार प्राप्त करने के बाद भी काम के प्रति उत्साह बना रहना चाहिए ताकि भविष्य को सुनहरा किया जा सके। कलेक्टर श्री विजय सोमवार को लाईवलीहुड काॅलेज आड़ावाल में बेरोजगारी भत्ते के लिए स्वीकृत हितग्राहियों का कौशल प्रशिक्षण हेतु पंजीयन कार्य का अवलोकन कर हितग्राहियों से चर्चा किए।
कलेक्टर ने बताया कि जिले में बेरोजगारी भत्ता योजना के तहत स्वीकृत आवेदकांे 2464 लोगों को योजना का लाभ दिया गया। बेरोजगारी भत्ता के पात्र हितग्राहियों का रोजगार मूलक प्रशिक्षण लाइवलीहुड कालेज आड़ावाल जगदलपुर में प्रारंभ किया गया है। वर्तमान में तीन बेंचों में 90 युवा सोलर पंप टेक्नीशियन, अनआर्म सिक्योरिटी गार्ड एवं फ्रंट आफिस एसोसिएट के कोर्स में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इस लाइवलीहुड संस्था द्वारा सिक्योरिटी गार्ड, असिस्टेंट इलेक्ट्रिशियन, सोलर पंम टेक्नीशियन, टेलर, डेस्कटाॅप पब्लिशिंग, फ्रंट ऑफिस एसोसिएट, वेल्डर और प्लम्बर ट्रेडो में बच्चों को प्रशिक्षण के लिए तैयारी की गई। प्रशासन द्वारा प्रशिक्षण की सुविधा के लिए लाईवलीहुड काॅलेज के साथ-साथ अन्य एक स्थल का भी चयन किया गया है। कौशल प्रशिक्षण की मांग के आधार पर कोर्स प्रारंभ किया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षणार्थियों का बायोमेट्रिक उपस्थिति दर्ज की जाएगी, साथ ही प्रशिक्षण उपरांत रोजगार मेला का भी आयोजन किया जाएगा।
ज्ञात हो कि जिन आवेदकों को बेरोजगारी भत्ता स्वीकृत किया गया है। उन हितग्राहियों को एक वर्ष की समयावधि में कौशल विकास प्रशिक्षण का ऑफर दिया जा रहा है। शासन के निर्देशानुसार कौशल विकास प्रशिक्षण के पश्चात् उन्हें रोजगार प्राप्त करने में सहायता की जाएगी और यदि वे कौशल विकास प्रशिक्षण में भाग लेने से इंकार करते हैं या ऑफर किया गया रोजगार स्वीकार नहीं करते हैं तो उनका बेरोजगारी भत्ता बंद कर दिया जाएगा। आवेदक द्वारा बेरोजगारी भत्ता के आवेदन में उल्लेखित व्यवसायों में से किसी एक व्यवसाय में कौशल विकास प्रशिक्षण निःशुल्क उपलब्ध कराया जाने का उल्लेख किया गया है। इस अवसर पर लाईवलीहुड काॅलेज के प्रभारी श्री शरदचंद्र गौण, रोजगार अधिकारी श्री नेताम सहित अन्य अधिकारी व बेरोजगार भत्ता के हितग्राही उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here