कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में विद्यार्थियों के लिए शैक्षणिक भ्रमण ‘‘आमचो रान आमचो जीवना ” की शुरूवात

0
51

 जगदलपुर 26 दिसम्बर . बस्तर जिला अंतर्गत कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान जैवविधता , घने जंगलो के साथ-साथ यहां पाये जाने वाले लाईम स्टोन की गुफाए , तीरथगढ़ जलप्रपात एवं स्थानीय आदिवासी संस्कृति के लिए जाना जाता है। छत्तीसगढ़ का राजकीय पक्षी बस्तर पहाड़ी मैना के रहवास के साथ यहां दुर्लभ प्रजातियां जैसे माऊसडियर, जंगली भेड़िया जैसे अनेक वन्यप्राणी पाये जाते है । वन्यप्राणी संरक्षण की दिशा मे राष्ट्रीय उद्यान द्वारा लगातार ग्रामीणो के साथ मिलकर लगातर कार्य भी किया जा रहा है।

बस्तर के इस प्राकृतिक एवं सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण एवं संवर्धन के लिए स्कूल एवं कालेज में अध्ययनरत विद्यार्थियों में जागरूकता तैयार करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय उद्यान द्वारा शैक्षणिक भ्रमण ‘‘ आमचो रान आमचो जीवना‘‘ की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। बस्तर संभाग के स्कूल एवं कालेज के विद्यार्थियों को राष्ट्रीय उद्यान प्रबंधन शैक्षणिक भ्रमण हेतु आंमत्रित करता है । शैक्षणिक भ्रमण की अधिक जानकारी हेतु इस कार्यालय के नोडल अधिकारी श्री कमल नारायण तिवारी, स.व.सं., कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान, जगदलपुर से मो.नं.- 9407799049 पर कार्यालयीन समय सुबह 10 बजे से 05 बजे तक संपर्क सम्पर्क कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here