कांगेर घाटी में सम्पन्न हुई दो दिवसीय गुफाओं पर आधारित कार्यशाला

0
25

जगदलपुर , 26 फरवरी .   कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान भूमिगत लाइमस्टोन गुफाओं के लिए प्रसिद्ध है यहां कुटुमसर गुफा ,कैलाश गुफा जैसे 15 से अधिक गुफाएं हैं जो राष्ट्रीय उद्यान की सुंदरता को बढ़ाती है
दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन शुक्रवार को कोटमसर गांव में नेशनल केव रिसर्च एंड प्रोटक्शन ऑर्गेनाइजेशन के साथ मिलकर किया गया।

कार्यशाला में श्री जयंत विश्वास जी के द्वारा  गुफा के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई साथ ही श्री राजन जी ने गुफा की खोज कैसे की जाती है और  गुफाओं के सर्वे के वक्त दुर्घटना से बचने के लिए किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए इस संबध में बताया गया।  साथ ही  गुफाओं के सर्वे के समय गुफाओं को हानी ना पहुंचाते हुए इसका अध्ययन किस रूप से कैसे कर सकते हैं इस संबंध में विस्तृत रूप से प्रेजेंटेशन और गुफा ले जाकर फील्ड में जानकारी दी। इसके अलावा पर्यटकों को भूगर्भीय अध्ययन के दृष्टिकोण से उनकी महत्वता को कैसे अर्जित कराया जाता है यह भी बताया गया।

50 से अधिक प्रतिभागी हुये सम्मिलित

इस कार्यशाला में डाॅ जयंत विश्वास गुफा ,श्री राजन विश्वनाथ विशेषज्ञ के रूप में उपस्थित रहे । प्रतिभागियों में राष्ट्रीय उद्यान के नेचर गाइड, ISBN यूनिवर्सिटी के स्कॉलर और विभागीय कर्मचारी शामिल थे।

पार्क निदेशक  धम्मशील गणवीर ने बताया कि इस कार्यशाला से गुफाओं के वैज्ञानिक दृष्टिकोण से  प्रबंधन के लिए पार्क को सहायता मिलेंगी। साथ ही स्थानीय नेचर गाइड़  को  इको टूरिज्म के माध्यम से गुफाओं की वैज्ञानिक जानकारी पर्यटकों तक पहुंचाने के लिए मदद मिलेगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here