दाग देहलवी ने उर्दू ज़बान के साथ साथ भारत की तेहज़ीब व विरासत को भी परवान चढ़ाया एम. डब्ल्यू. अंसारी

0
26

उर्दू है जिस का नाम हमीं जानते हैं ‘दाग’

सारे जहां में धूम हमारी जुबाँ की है

बुलबुल हिंद, नवाब मिर्जा दाग एक महान शयर हैं। जिन्होंने उर्दू गज़ल में वो प्रेम गीत गाए जो उर्दू गजल की दुनिया के लिए नए थे। दाग देहलवी ने उर्दू गज़ल को एक समृद्ध स्वर दिया और साथ ही इसे भारी फारसी रचनाओं से बाहर निकाला और शुद्ध उर्दू में शयरी लिखी। नया तरीका पूरे भारत में इतना लोकप्रिय हुआ कि हज़ारों लोगो ने उसे कुबुल किया और उनके शर्गिद बन गए। भाषा को उसके वर्तमान स्वरूप में लाने का श्रेय भी दाग को ही जाता है। दाग एक ऐसे शयर और कलाकार हैं, जिन्हें उनके विचार और कला, कविता और साहित्य की ऐतिहासिक सेवाओं के लिए कभी नहीं भुलाया जा सकेगा।

उनकी सेवा की सराहना की जानी चाहिए कि उन्होंने कठिन और सख्त शब्दों को त्याग कर सरल शब्दों का प्रयोग किया। जिससे कलाम में खुबसुरती पैदा हुई। दाग दहलवी का फन उनकी शख्सियत की तसवीर है इस लिए उस में बड़ी जान है।

नही खेल ऐ दाग यारों से कह दो

कि आती है उर्दु जबान आते आते

दाग देहलवी को निजामे दक्कन से शिक्षा प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त था। दबीर-उद-दौला, फसीह-उल-मुल्क, नवाब नाजिम जंग बहादुर के खिताब मिले। दाग देहलवी के जितने शिष्य हुए किसी अन्य शयर को नहीं मिले। उनके शिष्य पूरे भारत में फैले हुए थे।

एक ऐसी शख्सियत जिसे किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है, वह खुद दुनिया भर में जाने जाने वाले कई शयरों के उस्ताद हैं। आज 25 मई को उनके यौमे पैदाईश पर हम उन्हें खिराजे अकीदत पेश करते हैं और अपील करते हैं इन जैसी सभी अजीम शख्सियात को याद करना चाहिए।

क्योंकि अगर हम इस देश में अमन चाहते हैं, भाईचारे का माहौल चाहते हैं, तो हमें उर्दू के लिए मेहनत करनी होगी। क्योंकि उर्दू भाषा ही एक ऐसी भाषा है जिसने लोगों को हमेशा जोड़े रखा है और भविष्य में उर्दू भाषा और संस्कृति ही भारत को जोड़े रख सकती है।

हमें आने वाली पीढ़ियों को उर्दू भाषा सिखाने का प्रयास करना चाहिए। खुद उर्दू पढ़ो, उर्दू लिखो और उर्दू बोलो और अपने बच्चों को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करो। अपने घरों में एक उर्दू अखबार जरूर लगवाएं ताकि इस प्यारी भाषा की पहचान बनी रहे और उर्दू भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए हर संभव प्रयास करें।

भारत है इसका मसकन, भारत है इसका गुलशन

भारत की है दुलारी उर्दू जुबान हमारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here