मुख्यमंत्री ने कहा बेटा, यहां सब अपने लोग हैं और समाप्त हो गई तृप्ति की हिचक

0
122

करीम

रायपुर, 26 जून। प्रदेश के मुखियाओं में केवल आम जनता के नब्ज के तत्व हैं। अपनी जब बात प्रोफेसर जे.एन. पन्ने आत्मानंद स्कूल की इलेक्ट्रॉनिक्स तृप्ति जगत स्टोर हुई। तृप्ति अपनी बात देखने में थोड़ा सा उठ रही थी। मुख्यमंत्री ने पूरे वात्सल्य से स्नेह से कहा, बेटा यहां सब अपने लोग बेझिझक अपनी बात कहो। मुख्यमंत्री की रिपोर्ट पर ही तृप्ति का हुंकार पूरी तरह से दूर हो गया।उन्होंने बताया कि इस स्कूल में पढ़ाई के अच्छे स्तर को देखते हुए मैंने यहां प्रवेश लिया है। यहां मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने सचिवालय को शाबासी देते हुए कहा कि आप कितने महान से बात रख रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री वाल्मबचल ने शाला प्रवेश उत्सव के अवसर पर बच्चों से आज रु-ब-रू हो रहे थे।

मुख्यमंत्री से बच्चों ने भी कही अपने दिल की बात। मुख्यमंत्री ने बच्चों से पूछा कि 16 जून के बदले 26 जून को स्कूल क्लास पर कैसा अनुभव कर रहे हैं।सभी बच्चों ने मुख्यमंत्री श्री बघेल को धन्यवाद देते हुए कहा कि 26 जून को स्कूल से गर्मी और लू से राहत मिली। मुख्यमंत्री ने कहा कि उस समय गर्मी के मौसम और बच्चों के स्वास्थ्य को देखते हुए सरकार ने 26 जून से स्कूल स्तर का निर्णय लिया। शाला प्रवेश उत्सव शुरू पूर्व प्रदेश में बारिश का दौर शुरू हो गया है। बारिश के फुहारों के साथ ही नई शिक्षा सत्र की शुरुआत हुई।

छात्र राजेश ने बताया कि हमारी लाइब्रेरी में पढ़ने की रुचि है। स्वामी आत्मानंद बीपी पुजारी शाला में आठवीं के समापन समारोह में सुरभि साहू ने कहा कि स्वामी आत्मानंद स्कूल में आर्थिक रूप से कमजोर और होनहार बच्चों को भी अच्छी अंग्रेजी शिक्षा का अवसर मिल रहा है। मुख्यमंत्री श्री बौद्ध के समधी स्वामी आत्मानंद राजा तालाब स्कूल कक्षा 8वीं के संस्थापक कशिश अंजुम खान ने भी शाला प्रवेश के अवसर पर अपने विचार रखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here