अरनपुर नक्सली हमला- अलग अलग मामले में 21 नक्सलियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज

0
109

करीम

जगदलपुर, 28 अप्रैल। बस्तर- दंतेवाडा पुलिस ने अरनपुर में हुई घटना के पूर्व और घटना के बाद के दो अलग अलग मामले में 19 नक्सलियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की है.
बस्तर के पुलिस महानिरीक्षक सुंदरराज पी ने जानकारी देते बताया की  25 अप्रैल की दरम्यानी रात डीआरजी दंतेवाड़ा और सीएएफ कैम्प नहाड़ी की संयुक्त बल  अरनपुर क्षेत्र में नक्सलियों की सूचना पर अभियान पर रवानाहुये थे. 6 अप्रैल के की सुबह लगभग 6.30 बजे पुलिस नक्सली मुठभेड़ हुई.घटना स्थल का सर्चिंग करने पर 2 संदिग्ध नक्सली मिलिशिया सदस्य लखमा कवासी और सन्ना उर्फ कोसा को गिरफ्तार किया गया .घटना स्थल से पि_ू, नक्सल साहित्य, दैनिक उपयोगी समाग्री बरामद किया गया था.मामले को लेकर अरनपुर थाना में दरभा डिवीजन कमेटी के नक्सली कैेडर जगदीश, लख्खे, लिंगे, सोमडू, महेश, हिड़मा, उमेश, देवे, नंद कुमार, लखमा, कोसा, मुकेश तथा अन्य के विरूद्व धरा 147,148,149,307 भादवि. 25,27 आम्र्स एक्ट 13(1), 38(2), 39(2) यूएपीए एक्ट के तहत्  एफआईआर   दर्ज किया है.

श्री सुंदरराज पी ने बताया की अरनपुर मार्ग पर हुये ब्लस्ट मामले में 9 नक्सलियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है. आईजी ने बताया की मुठभेड़ में घायल नक्सली कोसा उर्फ सन्ना के जांघ व हाथ की कोहनी में गोली लगी थी जिसे तत्काल उपचार की आवश्यकता थी,उपचार हेतु डीआरजी की एक टीम जिला मुख्यालय लेकर आ रही थी,मुठभेड़ स्थल से डीआरजी टीम 3 गाडिय़ों में रवाना हुई थी.इस बीच नक्सलियों ने  घात लगाकर डीआरजी टीम की एक गाड़ी को थाना अरनपुर से 2 किमी,  पेड़का चौक पर आईईडी ब्लास्ट किया उड़ा दिया.ब्लास्ट की घटना को अंजाम देंने में शामिल दरभा डिवीजन के नक्सली कैेडर चैतू, देवा, मंगतू, रनसाय, जयलाल, बामन, सोमे, राकेश, भीमा एवं अन्य के विरूद्व  धारा 147,148,149,307,302 भादवि. 4,5 वि.प.अधि.नियम 25,27 आम्र्स एक्ट 13(1), 38(2), 39(2) यूएपीए एक्ट के तहत् मामला पंजीबद्व किया गया है।

बस्तर आईजी के अनुसार  नक्सलियों ने आईईडी को लगभग डेढ़ से दो महीने पहले सड़क के किनारे से सुरंग खोदकर लगाया था जिसके तार को सड़क के किनारे घने जंगल से आड़ लेकर जमीन के नीचे लगभग 2-3 इंच दबाकर लगभग 150 मीटर दूर तक ले जाकर मौका देख कर घटना को अंजाम दिया गया.अरनपुर  रोड पर समय- समय पर डी-माईंनिंग की कार्यवाही की जाती है.उक्त आईईडी सुरंग खोद कर  सड़क के काफी नीचे लगाई गई थी जिसके कारण डी-माईंनिंग के दौरान स्रद्गह्लद्गष्ह्ल नहीं हो पाया.

श्री सुंदरराज पी ने बताया की डीआरजी जवान,जोगा सोढ़ी,मुन्ना राम कड़ती,संतोष तामो,दुल्गो मण्डावी, लखमू मरकाम, जोगा कवासी, हरीराम मण्डावी,राजू राम करटम,गोपनीय सैनिक जयराम पोडिय़ाम,जगदीश कवासी और वाहन चालक धनीराम यादव शहीद हो गये.शहीद जवानों में से 05 जवान जोगा सोढ़ी, मुन्ना राम कड़ती,हरीराम मण्डावी, जोगा कवासी, गोपनीय सैनिक राजू राम करटम शासन की पुनर्वास नीति के तहत् आत्मसमर्पण करने के बाद पुलिस विभाग के डीआरजी में कार्यरत् थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here