आदिवासियों की गौरवशाली संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं-श्री लखेश्वर बघेल

0
130

करीम

जगदलपुर, 01 मई. बस्तर विधायक बविप्रा अध्यक्ष श्री लखेश्वर बघेल ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा आदिवासियों की गौरवशाली संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं इस क्रम में आदिवासियों की आस्था और श्रद्धा के केन्द्र देवगुड़ी के जीर्णोद्धार और परिसर के सौन्दर्यीकरण तथा बुनियादी सुविधाओं के विकास के कार्य कराए जा रहे हैं बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण मद द्वारा आमादुला में देवगुड़ी मरम्मत कार्य हेतु 03लाख रूपए की राशि स्वीकृत की गई थी जिसका आज बस्तर विधायक श्री लखेश्वर बघेल द्वारा लोकार्पण किया गया. श्री बघेल तोंगकोंगेरा के आश्रित ग्राम आमादुला पहुंचकर माता गंगादई एवं आंगा देव की पूजा कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की उल्लेखनीय है कि बस्तर अंचल के ग्रामीणों की आस्था का बड़ा केंद्र देवगुडि़याँ हैं ♦️सत्यनारायण कथा में शामिल होकर आशीर्वाद प्राप्ति कर सभी लोगों को शुभकामनायें प्रेषित किया ♦️आमादुला में गंगादई माता प्रांगण क्षेत्र में उंहा की कमी स्थिति को देखते हुए तत्काल समस्या का निदान करते हुए 02 लाख रूपये बाउंड्रीवाल हेतु घोषणा की ♦️बस्तर संभाग के आदिवासीसमुदाय के जीवन में देवगुड़ी और घोटूल रचा बसा हुआ है. देवगुड़ी देवता के घर को कहा जाता है वहीं घोटूल आदिवासियों के लिए शिक्षा का केंद्र माना जाता है बस्तर में देवी देवताओं की संख्या अनगिनत है प्रत्येक गांव में देवी देवता पाए जाते हैं जो गांव की रक्षा करते हैं. देव के लिए पेन शब्द का इस्तेमाल होता है, तो कही ग्राम्य देवता के लिए पाट देव तो कहीं आंगा देव कहा जाता है तो कहीं ग्राम देवी के रूप में गंगादई माता विख्यात हैं. वहीं समूचा बस्तर की आराध्य और सबसे बड़ी देवी के रूप में मां दंतेश्वरी विख्यात हैं ♦️जिसमें मौजूद रहे सरपंच सोनो बाई, उपसरपंच अर्चन कश्यप,अमर भारती, पुजारी धंनसींग कश्यप, अर्जुन पटेल, छात्रपति बघेल,लखेश्वर कश्यप,शंकर बघेल,सुदन कश्यप,कोयली नेताम, खतकुड़ी कश्यप, जितेंद्र तिवारी, राजेश कुमार, तुलसीराम ठाकुर, एवं समस्त कार्यकर्त्तागण व माता बहनें उपस्थित रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here