55 गांवों ने फैसला किया चुनाव में भाग नहीं लेंगे

0
95

नारायणपुर, 5 नवम्बर   | नारायणपुर का अबूझमाड़  यह देश के सबसे पिछड़े इलाकों में शामिल है। यहां पिछले 382 दिनों से अबूझमाड़िया लोग अपने हक के लिए अपनी संस्कृति, अपनी पंरपरा और जंगलों को बचाने के लिए आंदोलन पर है। जब से आंदोलन शुरू हुआ है तब से हर दिन एक परिवार से एक व्यक्ति अनिवार्य तौर पर आंदोलन में शामिल हो रहा है। इस आंदोलन की सुध अब तक किसी भी नेता, जनप्रतिनिधि ने नहीं ली है।
अबूझमाड़ के इरकभट्टी में चल रहे आंदोलन स्थल पर पहुंची तो यहां आंदोलन जारी था। आंदोलन पर बैठे आदिवासियों ने बताया कि मतदान के बाद चुनाव जीतने के बाद विधायक तो दूर सरपंच तक उनके इलाके में नहीं आते हैं। लंबे आंदोलन के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है। वे लगातार अपना आंदोलन जारी रखेंगे और 7 नवबंर को होने वाले मतदान में वे हिस्सा नहीं लेंगे। उनके साथ 55 गांवों ने फैसला किया है कि वे भी चुनाव में भाग नहीं लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here